Chudail Mata Mandir : भारत का एक ऐसा मंदिर जहाँ चुड़ैल को देवी के रूप में पूजा जाता है.

Chudail Mata Mandir : हिन्दू सनातन धर्म में 33 कोटि (प्रकार) के देवी देवता माने जाते हैं. भारत में इन्हीं देवी देवताओं के अनेकों मंदिर हैं। लेकिन भारत के एक हिस्से में एक ऐसा भी मंदिर है जिसके बारे में जानकर आपको हैरानी हो सकती है। जी हां यहां एक ऐसा मंदिर है जहां चुड़ैल को देवी के रूप में पूजा जाता है। इस मंदिर को चुड़ैल माता मंदिर के नाम से जाना जाता है। आइये जानते हैं इस मंदिर से जुड़े सभी रोचक बातें।

Chudail Mata Mandir कहाँ है?

Chudail Mata Mandir गुजरात के पाटन जिले में है। यह मंदिर पाटन शहर से 10 किमी. दूर है। इस मंदिर का प्रांगण बहुत बड़ा है। मंदिर में किसी देवी मूर्ति की पूजा नही होती बल्कि एक दीप प्रज्वलित किया गया था उसी की पूजा यहां की जाती है। इस मंदिर में रोजाना बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते है और दर्शन करते है। मंदिर के प्रांगण को बागीचों और कई देवी देवताओं की मूर्तियों से सजाया गया है। यहां भगवान शिव जी की 25 फ़ीट ऊंची मूर्ति बनाई गई है जो यहां का प्रमुख आकर्षण है।

Chudail mata mandir

मंदिर की एक खास बात और है कि यहां मंदिर के आस पास के पेड़ों पर हज़ारों की संख्या में साड़ियां टंगी रहती हैं।क्योकि यहाँ माता जी को श्रृंगार के रूप में साड़ियाँ और चूड़ियाँ चढाई जाती है जिसे बाद में पेड़ों पर टांग दिया जाता है। मंदिर में आने वाले सभी श्रद्धालुओं के लिए प्रसाद के रूप में भोजन की व्यवस्था की जाती है। श्रद्धालु इस प्रसाद को ₹20 में खरीद सकते हैं और भरपेट प्रसाद ग्रहण कर सकते हैं। प्रसाद में पूरी सब्जी आदि बनाया जाता है।

Chudail Mata Mandir की कहानी क्या है ?

स्थानीय लोगों के अनुसार साल 2010 में यहां एक वरखडी वृक्ष (जिसमें शुद्ध आत्माओं का वास होता है) है जिसके नीचे श्री रायचंददास पटेल ने 5 ईंटों से chudail mata mandir की स्थापना की थी। एक दीपक के रूप में माता को स्थापित किया गया था और इस मंदिर को चुड़ैल माता मंदिर का नाम दिया गया था।इसके पीछे की घटना यह है कि इस मंदिर के पास की सड़क पर आए दिन कोई न कोई दुर्घटना हुआ करती थी। इसके चलते यहां के स्थानीय लोगों ने यहां मंदिर का निर्माण करने का सोचा और एक दीपक के रूप में मंदिर की स्थापना कर दी। मंदिर बनने के बाद यहां पर सड़क दुर्घटनाये कम होने लगी। इसके बाद इस मंदिर की मान्यता बढ़ने लगी। धीरे धीरे इस मंदिर को एक नया रूप दिया जाने लगा. मंदिर के आस पास दुकाने खुलने लगी. पहले तो स्थानीय लोग ही यहाँ पूजा करते थे. बाद में इस मंदिर के बारे में और इसकी मान्यता के बारे में सुनकर दूर दूर से लोग आने लगे. अब हर रविवार और मंगलवार यहाँ भक्तों की संख्या बहुत अधिक होती है.

Chudail Mata Mandir से जुडी एक सच्ची घटना

यह बात तब की है जब यह मंदिर नहीं बना था. एक बार एक वृद्ध और उसकी पत्नी इस मंदिर के रास्ते से अपनी साइकिल से जा रहे थे. अचानक उनकी साइकिल का अगला पहिया निकल गया और वे दोनों गिर पड़े उनको चोट आ गयी खून भी निकलने लगा. जहाँ वे गिरे थे वहां से थोड़ी दूरी पर एक पेड़ था वहां एक लाल साडी में एक लड़की दिखाई दी जिसे देखकर वे दोनों घबरा गए और हनुमान जी का नाम लेने लगे. जहाँ वे गिरे थे वहां सड़क पर सामने से एक चार पहिया गाडी आ रही थी. उसी समय गाडी के आगे एक बन्दर आ जाता है और गाडी वाले ने अपना पहिया घुमा लिया जिसके कारण उन दोनों वृद्ध की जान बच गयी. इसके बाद उन दोनों ने हनुमान जी को धन्यवाद दिया.

जहाँ वे गिरे थे वही थोड़ी दूर पर उस पेड़ के पास से किसी के रोने की आवाजें आने लगती हैं. दोनों वृद्ध के जहाँ चोट लगी थी उनको खून निकल रहा था लेकिन हैरानी की बात तो यह थी की वह खून ज़मीन पर गिरने के बाद रहस्यमयी रूप से दिखाई नहीं दे रहा था. वे दोनों डरे हुए थे और हनुमान जी का नाम ले रहे थे. उनके पास जो सामान था उसमें कलावा था. उन्होंने एक दुसरे को कलावा बाँधा और भगवान् से रक्षा करने की प्रार्थना की. उनके थैले में जो सामान था उसमें उनको एक कंगन मिलता है जो स्वर्ण जैसा लगता था लेकिन वः कंगन उनका नहीं था. यह देखकर उनको बहुत आश्चर्य होता है की यह कंगन उनके सामान में कैसे आया. फिर वे किसी तरह से वहां से उठते हैं और आगे चलने लगते हैं. इतने में पीछे से उस वृद्ध के नाम से कोई पुकारता है जिसे उसकी पत्नी ने भी सुना ,लेकिन उसने अपने पति को मन करते हुए कहा की पीछे मुड़कर मत देखना.

किसी तरह से वापस घर पहुचने के बाद उस कंगन को एक सुनार को दिखाया और पूछा कि यह कंगन सोने का है या साधारण? इस पर सुनार ने देखकर बातया की यह कंगन सोने का ही है. इसके बाद वे दोनों घर चले गए. वृद्ध के बहुत कहने पर भी स्त्री ने कंगन को पहन लिया और लोगों को दिखाने लगी और बहुत खुश होने लग गयी. रात को सोने के बाद वृद्ध को ऐसा लगा की उसके बगल में कोई लेटा है तो उसको लगा की उसकी पत्नी होगी तो उसने छूकर देखा तो उसको महसूस हुआ जैसे कोई पेड़ का तना है. अचानक वह वहां से उठता है और दरवाज़े से बाहर जाने लगता है तो उसकी पत्नी की आँख खुल जाती है और अपने पति के पीछे पीछे जाने लगती है. वह दोनों पास के एक पीपल के पेड़ के पास पहुँच जाते हैं. उसकी पत्नी उसे पीछे से उसके कंधे पर हाथ रखती है तो वह उसका हाथ ज़ोर से झटक देता है. वहां उनको पीपल के पेड़ के ऊपर लाल साडी में एक जले हुए भयानक रूप में एक स्त्री (चुड़ैल) दिखाई देती है. वह दोनों डर कर भागते हुए आ जाते है और अगली सुबह सबको घर में यह बात बताते हैं.

फिर वह दोनों एक पंडितजी से मिलते हैं और उनसे सारी बात बताते हैं. पंडित जी उन दोनों को एक पोटली में अभिमंत्रित करके हल्दी चावल देते है और कहते हैं की यह पोटली अपने पास रखना और दोबारा अगर तुम्हारे साथ ऐसा हो तो उस स्त्री से पूछना की तुम क्या चाहती हो? फिर देखो वह तुमको क्या बताती है? वह दोनों घर आ गए उस रात को भी कुछ ऐसा ही हुआ वह दोनों रात को अपने आप घर से निकल कर वहां पहुच गए जहाँ आज Chudail Mata Mandir बना हुआ है. अचानक वहां एक सड़क दुर्वघटना हो जाती है जिसमें एक लड़के की मौके पर ही मृत्यु हो जाती है. वहां एक पेड़ के पास उनको फिर से वही लाल साडी वाली स्त्री दिखाई दी, उन्होंने उससे पुछा की तुम हमसे क्या चाहती हो क्यों हमें परेशान कर रही हो. इस पर उस चुड़ैल स्त्री ने अपना दिव्य रूप में आकर उनसे कहा की “मैं तुमसे अपनी पूजा चाहती हूं.”

यह सुनकर दोनों ने उनको प्रणाम किया और मानसिक पूजा की और कहा की हम आपकी पूजा ज़रूर करेंगे. फिर वह दोनों घर आकर यह सब बाते अपने पंडित जी को बताते हैं और इसपर पंडित जी कहते हैं की वहां एक मंदिर बनना चाहिए. फिर वहां एक मंदिर बनवाया जाता है. मंदिर बनने के बाद से वहां के सड़क हादसे न के बराबर हो गए. आज वहां एक बहुत बड़ा मंदिर बना हुआ है. जहाँ दीपक के रूप में Chudail Mata को पूजा जाता है.

Chudail Mata Mandir की मान्यता क्या है ?

यहां के लोग माता जी को न्याय की देवी के रूप में भी पूजते हैं। उनका मानना है कि चुड़ैल माता सबके साथ न्याय करती है। किसी का अदालत या कोर्ट से जुड़ा कोई मामला होता है तो वे इस मंदिर में माता जी की पूजा करके उनसे न्याय की पुकार करते हैं। लोग कहते है कि चुड़ैल माता सबके साथ न्याय करती हैं। किसी प्रकार की समस्या होने पर लोग माता के दर्शन करने आते हैं और उनकी समस्या का समाधान माता जी दे देती हैं।

अब कभी भी आपको गुजरात जाने का मौका लगे तो इस Chudail Mata Mandir में ज़रूर जाइये जहाँ लोगों की आस्था एक चुड़ैल रूपी देवी में है और वहां चुड़ैल माता जी की पूजा की जाती है. हम ऐसे ही रोचक सफर आपके लिए Explore करके लाते रहेंगे. हमसे जुड़े रहने के लिए आपका ह्रदय से धन्यवाद. अपने सुझाव हमें कमेंट में लिखते रहिये. जय हिन्द

Bullet Mandir : भारत का एक ऐसा मंदिर जहाँ बुलेट बाइक की होती है पूजा

Visa Temples in India : अगर वीज़ा नहीं लग रहा है तो इन मंदिरों में लगाये अर्जी काम हो जायेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.