White Fungus क्या है? यह Black Fungus से कितना ज्यादा खतरनाक है?

White fungus kya hai

ब्लैक फंगस संक्रमण के बाद अब एक और नया कवक संक्रमण White Fungus बिहार के पटना में चार लोगों में पाया गया है। चार संक्रमित लोगों में से एक पटना के एक मशहूर डॉक्टर हैं। बताया जा रहा है की यह ब्लैक फंगस से भी ज्यादा हानिकारक है।

White Fungus फेफड़ों के साथ साथ मुँह, त्वचा, नाखून, पेट, गुर्दे, मष्तिस्क, यहाँ तक की निजी अंगों को भी नुक्सान पहुंचा रहा है। डॉक्टरों ने जांच में पाया की जो वाइट फंगस से संक्रमित हैं उनके भी फेफड़े संक्रमित हुए हैंI उनकी HRCT Scan होने पर पता चला की उनमें भी कोरोना के लक्षण है। परन्तु वे लोग कोरोना पॉजिटिव नहीं हुए है।      

उत्तर प्रदेश के मउ जिले में भी एक 70 साल के युवक में वाइट फंगस पाया गया है वह कोरोना से ठीक हो चुका था। लेकिन लगातार स्टेरॉयड ले रहा था। उसे eye फ्लोटर्स हुए और उसकी आँखों की रोशनी चली गयी।

White Fungus संक्रमण कहाँ हो रहा है ?

पीएमसीएच में माइक्रोबायोलॉजी के प्रमुख डॉ एस एन सिंह के अनुसार जब उन चार लोगों की जांच हुई तो उन्होंने पाया की उनके फेफड़े संक्रमित हुए है और कोरोना की जांच नेगेटिव आई है। मरीजों को एंटी फंगल दवाए देने के बाद वे ठीक हो गए।

White Fungus infection in india
Image Source : Shutterstock

White Fungus किसे हो रहा है।

डॉ सिंह ने कहा कि ब्लैक फंगस की तरह सफेद फंगस भी कमजोर इम्युनिटी वालों के लिए ज्यादा खतरनाक होता है। डायबिटीज के मरीज और जो लोग लंबे समय से स्टेरॉयड ले रहे हैं, उन्हें व्हाइट फंगस से संक्रमित होने का खतरा अधिक होता है।

व्हाइट फंगस उन कोरोनावायरस रोगियों को भी प्रभावित कर रहा है जो ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। सफेद फंगस का सीधा असर इन मरीजों के फेफड़ों पर पड़ रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक सफेद फंगस के खिलाफ कैंसर के मरीजों को अलर्ट पर रखा गया है। सफेद कवक बच्चों और महिलाओं को भी संक्रमित करता है और डॉक्टरों के अनुसार यह ल्यूकोरिया का मुख्य कारण है।

White Fungus के लक्षण।

यह भी एक प्रकार का कवक संक्रमण ही है I White Fungus फेफड़ों के साथ साथ मुँह के अन्दर, त्वचा, नाखून, पेट, गुर्दे, मष्तिस्क, यहाँ तक की निजी अंगों को भी प्रभावित कर रहा हैI

वाइट फंगस का इलाज।

अभी तक मरीजों को वाइट फंगस का संक्रमण हुआ है उनको एंटी फंगल दवाए देने के बाद वे ठीक हो गए हैI डॉ सिंह ने कहा कि ऑक्सीजन या वेंटिलेटर को ठीक से सेनेटाइज करने से व्हाइट फंगस के संक्रमण से बचाव आसान है।

यह भी पढ़ें : Fungal Infection कभी नहीं होगा अगर इन बातों का रखेंगे ध्यान।

यह भी पढ़ें : Corona Vaccine से जुडी जानकारियां जिनको जानना है बहुत ज़रूरी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.