HSRP क्या है? High security number plate कैसे बनवाए ? HSRP 2022 रेजिस्ट्रेशन कैसे करें? HSRP के फायदे क्या हैं?

HSRP high security registration plate

HSRP (High security number plate) क्या है, High security number plate कैसे बनवाए ?, High security number plate के फायदे, U.P. High security number plate रेजिस्ट्रेशन कैसे करें, ऑनलाइन आवेदन कैसे करे, High security number plate क्यों जरूरी है, HSRP के मुख्य उद्देश्य, HSRP कहा से कराए, HSRP टोल फ्री नंबर, HSRP कलर कोडेड स्टीकर क्या है आदि HSRP High security number plate से जुड़ी सभी जानकारी।

High security number plate एल्युमिनिनियम से बनी हुई एक नए तरीके की non- removable “high-security registration plate” है। ये दो तरह के सुरक्षा लॉक के साथ आती है। प्लेट्स को छेड़छाड़ या चोरी होने की घटनाओं को कम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। HSRP को snap on lock सुरक्षा के साथ बनाया गया है और इसे बदला नहीं जा सकता है। लॉक टूट जाने के बाद आप इस प्लेट को दोबारा इंस्टॉल नहीं कर सकते हैं और फिर आपको दूसरी नंबर प्लेट खरीदनी ही होती है।

High security number plate की लेफ्ट साइड पर ‘IND’ लिखा होता है और साथ ही क्रोमियम बेस्ड अशोक चक्र भी बना होता है।  वाहनों पर लगी हुई नंबर प्लेट में लिखा हुआ व्हीकल आईडेंटिफिकेशन नंबर लेज़र एनकोडेड होता है जो स्कैन करने में आसान होता है और इसमें किसी भी तरीके की छेड़छाड़ भी नहीं की जा सकती है।

भारत सरकार ने CMVR 1989 अधिनियम की नियम संख्या 50 के अनुसार सभी two wheelers और four wheelers वाहनों के लिए अनिवार्य किया है। इसके लिए सभी two wheelers और four wheelers वाहन मालिकों को अपने वाहनों में हाई-सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाना अनिवार्य है। HSRP का मुख्य उद्देश्य चोरी किए गए वाहनों की पहचान उन्हे आसानी से ट्रैक करना है साथ ही साथ original नंबर प्लेट्स हटाकर डुप्लीकेट नंबर प्लेट से चलने वाले वाहनों की पहचान भी आसानी से की जा सकती है।

High security number plate अनिवार्य क्यों है और इसका मुख्य उद्देश्य क्या है?

पुरानी नंबर प्लेटें नंबर स्टिकर के साथ आया करती थी जिसपर से आप स्टिकर आसानी से  हटाकर अपने  व्हीकल का रजिस्ट्रेशन नंबर बदल सकते थे जिससे आपराधिक मामले सामने आते थे क्योंकि ज्यादातर चुराए गए वाहनों की नंबर प्लेटे बदल दी जाती थी जिससे उन्हें ट्रैक करना काफी मुश्किल हो जाया करता था।

लेकिन ये नई तरीके की नंबर प्लेट High security और नॉन रिमूवेबल लॉक के साथ बनी हुई है जिसके साथ छेड़छाड़ नही की जा सकती। HSRP की जरिए से पुलिस सड़कों पर लगे CCTV कैमरों की मदद से वाहनों पर लगे नंबर प्लेट को स्कैन कर वाहनों को आसानी से ट्रैक कर सकती है। 

भारत सरकार और सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने 1 अप्रैल 2019 से सभी वाहनों के लिए हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) और कलर कोडेड स्टिकर लगवाना  अनिवार्य कर दिया है। हांलकि 1 अप्रैल 2019 के बाद से खरीदे गए सभी वाहनों पर HSRP प्लेट और कलर कोडेड स्टिकर आना शुरू हो गए हैं लेकिन इससे पहले जिन लोगों ने वाहन खरीदे है और उन्होंने वाहनों पर वाहनों पर अभी तक HSRP और कलर कोडेड स्टीकर नहीं लगवाएं हैं तो ऐसे में आपको कभी भी जुर्माना भरना पड़ सकता है।

हांलाकि HSRP का मुख्य उद्देश्य चोरी किए हुए वाहनों की पहचान करके उन्हे ट्रैक करना है इसके अतिरिक डुप्लीकेट नंबर प्लेट वाले वाहनों को भी आसानी से ढूंढा जा सकता है। साथ ही साथ HSRP के रहते आप यातायात नियमों का उल्लंघन भी नही कर पाएंगे क्योंकि यातायात नियमों का उल्लंघन करने पर उल्लंघनकर्ता आसानी से पकड़ा जाएगा। सबसे प्रमुख बात ये है कि डेटा का डिजिटाइजेशन करने के लिए ये चीजें सरकार की काफी मदद करेगी। 

वाहनों पर HSRP इंस्टॉल कराने पर कितना शुल्क देना होगा 

2 व्हीलर में एचएसआरपी इंस्टॉल कराने के लिए 600 रुपये कीमत रखी गई है। वहीं 4 व्हीलर के लिए 1000 रुपये तय किए गए हैं जो कि वाहनों की कैटेगरी के अनुसार भिन्न भी हो सकते हैं। ये नए तरीके की नंबर प्लेट (HSRP) कलर कोडेड स्टिकर्स के साथ आती थी जो अलग अलग वाहनों के लिए अलग अलग कलर्स की होती हैं।

कलर कोडेड स्टीकर क्या होता है और क्यों जरूरी है लगवाना?

मुख्य रूप से कलर कोडेड स्टिकर में वाहनों के फ्यूल टाइप का पता चलता है इसका उद्देश्य यह पहचानने में मदद करना है कि कार किस प्रकार के ईंधन से चल रही है। कलर कोडेड स्टिकर्स के कलर्स वाहनों के कैटेगरी के हिसाब से होते है। इसमें पेट्रोल और सीएनजी कारों के लिए ब्लू स्टिकर दिया जाता है, डीजल कारों के लिए ऑरेंज कलर दिया जाता है और वहीं इलेक्ट्रिक कारों के लिए ग्रीन कलर का स्टिकर दिया जाता है।

इन स्टिकर्स को आपको गाड़ी की विंडस्क्रीन पर अंदर की ओर से चिपकाना होता है। स्टिकर्स के ऊपरी हिस्से में एक्सट्रा ग्रीन कलर की स्ट्रिप भी दी गई होती है जो यह बताती है कि कार BS-6 नियमों का अनुपालन करती है।  

High security number plate colour stickers

भारत सरकार के निर्देशों के अनुसार, HSRP और कलर कोडेड स्टिकर्स इन दोनों को गाड़ियों में लगवाना अनिवार्य है दिल्ली, उत्तर प्रदेश और हिमांचल प्रदेश समेत कुछ शहरों में इसकी चेकिंग शुरू हो चुकी है. ऐसे में यदि आपने अपने वाहने पर HSRP और कलर कोडेड स्टीकर नहीं लगवाया है तो आपको कभी भी जुर्माना देना पड़ सकता है।

HSRP नंबर प्लेट और कलर कोडेड स्टिकर्स के लिए ऐसे करें ऑनलाइन आवेदन?

*सबसे पहले आपको bookmyhsrp.com पोर्टल पर जाना होगा।

*इसके बाद आप राज्य वाली दी गई लिंक पर क्लिक करना है।

*फिर आप स्टिकर के साथ एचएसआरपी या सिर्फ स्टिकर का ऑप्शन चुनें।

*इसके बाद आपको व्हीकल का टाइप दर्ज करना होगा जैसे – टूव्हीलर, थ्री व्हीलर, 4 व्हीलर, हैवी मोटर व्हीलर, कमर्शियल व्हीकल, इसे आप अपनी गाड़ी की कैटेगरी के अनुसार चुनले।

*अब आपको अपने व्हीकल का ब्रांड दर्ज करें जैसे मारुति, सुजुकी, होंडा, फोर्ड आदि।

*अब राज्य का चुनाव करें ।

* फिर अपने शहर में डीलरशिप चुनें या घर का पता, जहां आप High security number plate लगवाना चाहते हैं और कुछ डिटेल्स जैसे रजिस्ट्रेशन नंबर, गाड़ी के मालिक का मोबाइल नंबर, पता आदि दर्ज करें।

*इसके बाद आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा जिसे दिए गए निर्धारित स्पेस में डालें तथा दिन और तारीख का चयन करें।

*अब आपकोऑनलाइन पेमेंट करना होगा (पेमेंट राशि गाड़ी के टाइप पर निर्भर करेगी और फिटमेंट लोकेशन का चयन करते समय यह दिखाई देगा)।

*सारी डिटेल्स पूरी होने के बाद ऑर्डर कंफर्मेशन डिटेल्स एसएमएस/ई-मेल के जरिए सुनिश्चित की जाएगा।

अगर bookmyhsrp.com पर प्लेट और स्टिकर के लिए बुकिंग नहीं हो पा रही है तो आप https://getmyhsrp.app/ website पर भी ट्राई कर सकते हैं।

इसके अलावा आप www.siam.com की वेबसाइट पर जाकर भी HSRP के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

HSRP लगवाने की अंतिम तिथि क्या है?

गाड़ियों के नंबर प्लेट के अंतिम दो अंकों के आधार पर अभी तक तो 15 नवंबर 2022 HSRP लगवाने की अंतिम तारीख थी। जिसे 15 नवंबर 2023 कर बढ़ा दिया गया है। इस अंतिम तारीख के भीतर सभी वाहन मालिकों को HSRP लगवाना जरूरी होगा। 

परिवहन विभाग ने वाहनों के नंबर प्लेट के अंतिम दो अंकों के आधार पर सोमवार को दी गई नई तारीख का सर्कुलर जारी करते हुए प्रदेश भर के आरटीओ को निर्देश भेज दिया है। इस निर्देश के अनुसार , जिन दो व चार पहिया निजी वाहनों के पंजीयन नंबरों के अंत में 0 या 1 है, उन्हें 15 फरवरी 2022 तक,

ऐसे ही जिन नंबरों के अंत में 2 या 3 है, उनके लिए HSRP लगवाने की अंतिम तारीख 15 मई 2022,

इसी तरह से जिन नंबरों के अंत में 4 या 5 है, वे 15 अगस्त तक अपने वाहनों में एचएसआरपी लगवा ले।

जिन नंबरों के अंत में 6 या 7 है, उन्हें अपने वाहनों में HSRP लगवाने की अंतिम तारीख 15 नवंबर 2022 तक निर्धारित की गई है।

इसी तरह जिन वाहनों के नंबरों के अंत में 8 और 9 है, उन्हें 15 दिसम्बर 2022 तक छूट दी गई है।

HSRP लगवाने से क्या फायदे हैं?

यातायात नियमों के अनुसार, सड़कों पर 15 साल से ज्यादा पुराने वाहनों को चलाने की मनाही है। वहीं 15 साल से ज्यादा पुरानी पेट्रोल कारें भी इस्तेमाल नहीं की जा सकती है और डीजल इंजन वाली कारों के लिए समय सीमा 10 साल है। 

*ऐसे में High security number plate के रहते ऐसे वाहनों पर लगाम लगाने के लिए पुलिस को काफी मदद मिलेगी।

* जैसा की हम जानते है, हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट(HSRP) वाहन सुरक्षा और सुविधा को ध्यान में रखकर बनाई गई है। इन प्लेट्स में नंबर्स नई तकनीक की नंबर प्रेशर मशीन से लिखे जाते हैं। इन प्लेट्स में स्नैप लॉक सिस्टम भी होता है यह एक तरह का पिन है जो कि आपके हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट को आपके वाहन से जोड़ता है इसे विभाग द्वारा ही लगाया जायेगा। यह किसी स्क्रू या फिर नट-बोल्ट की तरह नहीं होता है। यह पिन एक बार आपके वाहन से प्लेट को पकड़ लेगा तो यह दोनों ही तरफ से लॉक हो जाएगा। जो कि किसी के द्वारा खोला नहीं जा सकेगा।

High security number plate काफी फायदेमंद है क्योंकि इससे  अपराधिक वारदातों और हादसों पर लगाम लगेगी। इन क्रोमियम होलोग्राम वाले हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट में सात डिजिट का लेजर कोड होता है जो एक यूनिक नंबर है इस नंबर के जरिये किसी भी हादसे या आपराधिक वारदात होने की स्थिति में वाहन और इसके मालिक के बारे में तमाम जानकारियाँ उपलभ्ध हो सकेंगी।

HSRP और कलर कोडेड स्टिकर्स के लिए ऑफलाइन लाइन आवेदन किस प्रकार करे?

जो उम्मीदवारHigh security number plate बनाने के लिए ऑफलाइन आवेदन करना चाहते हैं उन्हें सबसे पहले आरटीओ(RTO) ऑफिस जाना होगा। RTO ऑफिस से आप High security number plate का आवेदन फॉर्म ले कर फॉर्म भर कर जमा कर दें इससे आपकी ऑफलाइन आवेदन प्रकिया पूरी हो जाती है। इसके कुछ दिन बाद ही आप High security number plate को आरटीओ ऑफिस में जा आकर ले सकते हैं।

यह भी जानें :

Solar Panel yojna 2022 : सोलर रूफटॉप सब्सिडी योजना क्या है? इसमें आवेदन कैसे करे? इसके लाभ क्या हैं?

UP Cabinet 2022 : उत्तर प्रदेश राज्य सरकार मंत्रिमंडल सूची 2022

Solar Business Ideas 2022 : सौर ऊर्जा तकनीक से जुड़े सफल बिजनेस

Hindiexplore Home

Leave a Reply

Your email address will not be published.