10+ Watch Facts and history of watch : घड़ियों से जुड़े रोचक तथ्य और घड़ियों का इतिहास।

Watch Facts

Watch Facts, History of watch (घड़ियों का इतिहास), घड़ियों से जुड़े रोचक तथ्य, प्राचीनकाल में घड़ियाँ कैसी थी, प्राचीनकाल में लोग समय कैसे देखते थे ? प्राचीनकाल में समय की गणना कैसे की जाती थी. पहले के लोग समय देखने के लिए किन चीज़ों पर निर्भर थे. आधुनिक घड़ियों का इतिहास क्या है, घडी का अविष्कार किसने और कब किया. आदि घड़ियों से जुडी सभी जानकारी हम आपको इस लेख के माध्यम से देने जा रहे हैं.

History of watch (घड़ियों का इतिहास)

समय देखने के लिए जिस छोटी सी घडी को हम आज अपनी कलाइयों में बाँधकर चलते है, उसका इतिहास कई साल पुराना है। प्राचीनकाल में लोग समय देखने के लिए कई अलग अलग साधनों का प्रयोग करते थे। आज जो घड़ी हम देखते हैं जिसमें 3 प्रकार की सुइयाँ होती हैं उस घड़ी का आविष्कार एक साथ नहीं हुआ था। पहले घंटे वाली सुई के साथ घड़ी बनी, फिर मिनट वाली सुई लगी फिर सेकंड वाली। लेकिन उससे भी पहले लोग समय जानने के लिए केवल सूर्य पर निर्भर रहते थे। सूर्य की स्थिति के अनुसार समय का अनुमान लगाते थे। आइये जानते हैं समय देखने के लिए किस तरह की घड़ियां बनाई गई।

Sun clock (सूर्य घड़ी)

समय के साथ लोगों ने समय का सही अनुमान लगाने के लिए सूर्य घड़ी का अविष्कार किया। इसका इस्तेमाल प्राचीन मिश्र की सभ्यता में किया जाता था। सूर्य घडी उस समय का पहला ऐसा यन्त्र था जिससे समय कि गणना की जा सकती थी। इसे एक निश्चित स्थान पर बनाया जाता था जहाँ घडी पर सूर्य का प्रकाश पड़े। इस घडी में एक गोलाकार डाइल होता था जिस पर अंक लिखे होते थे और मध्य (बीच) में एक सुई होती थी।

sun dial g9b8b682aa 640 | hindiexplore
Image Souce : Pixabay

इस सुई को इस प्रकार मध्य में लगाया जाता था कि सूर्य का प्रकाश इस घडी कि सुई पर पडने पर इसकी छाया अंकों पर पड़ती थी तो समय का पता चल जाता था. इस घडी में एक खराबी थी कि यह केवल सूर्य की रौशनी में ही समय बता सकती थी. आकाश में बादल होने व रात के समय इस घडी में समय का अनुमान नहीं लगाया जा सकता था।

Sand clock (रेत घड़ी)

सूर्य घडी में कमियां मिलने पर समय का अनुमान लगाने के लिए एक नया साधन ढूँढने की ज़रुरत पड़ी और फिर आविष्कार हुआ जल घडी का जिसमें दो पात्रों का प्रयोग होता था। एक पात्र में जल भर दिया जाता था और इसमें नीचे एक छेद कर दिया जाता था। इस छेद से नियन्त्रित बूँदें नीचे रखे पात्र में गिरती थी। पात्र के भर जाने पर इसका नाप लेकर समय का अनुमान लगाया जाता था। इस जल घड़ी में किसी प्रकार की मशीनी उपकरण का प्रयोग नहीं होता था।

hourglass g6fcde65fc 640 | hindiexplore
Image Souce : Pixabay

धीरे धीरे इस जल घड़ी में रेत का प्रयोग होने लगा। इस घड़ी में घड़ी के ऊपरी हिस्से में रेत भरी होती थी और निचला हिस्सा खाली होता था रेत धीरे-धीरे इस निचले हिस्से में गिरती थी जिससे समय का अनुमान लगाया जाता था।

Hydrolic Water clock (जल घड़ी)

ईशा से 3 सदी पूर्व यूनान के रहने वाले आर्किमिडीज ने boyant force की खोज कर ली थी। जिसके बाद उन्होंने एक हैड्रोलिक जल घड़ी का अविष्कार किया। जिसमें उन्होंने पानी के बतरन में एक तैरने वाला इंडिकेटर डाल दिया था। उस इंडिकेटर को एक मीटर से जोड़ दिया था। उस बर्तन में जैसे जैसे पानी भरता था वो इंडिकेटर मीटर को चलाता था जिससे समय का पता लगाया जाता था।

History of watch Hydrolic Water clock
Image Souce : Shutterstock

इस तकनीक का उपयोग करके कई देशों में कई जगह वाटर क्लॉक टावर बनाये गए थे जिनसे समय देखा जाता था।

Candle clock (मोमबत्ती घड़ी)

नवी सदी में इंग्लैंड के अल्फ्रेड महान ने मोमबत्ती द्वारा समय का आनुमान लगाने वाली विधि का आविष्कार किया। उन्होंने एक मोमबत्ती की लंबाई पर समान दूरियों पर चिन्ह अंकित कर दिया और फिर मोमबत्ती के जलने तक सभी चिन्ह की लंबाई तक पहुचने का निश्चित समय दर्ज कर लिया जाता था। इस प्रकार मोमबत्ती से समय का पता लगाया जाता था।

candle clock | hindiexplore
Image Souce : Shutterstock

आधुनिक यांत्रिक घड़ियों का आविष्कार

आधुनिक यांत्रिक घडी का आविष्कार पोप सिलवेस्टर द्वितीय ने सन 996 इसवी में किया था. इनकी बनायीं हुई घडी आज की घडी जैसी नहीं थी. इस घडी में तब सिर्फ घंटे वाली सुई ही थी. बजाय इसके सन 1288 मे इंग्लैंड के वेस्टमिस्टर के घंटाघर मे घड़ियाँ लगाई गई थीं. ये घंटाघर शहर के ऐसी जगह पर बनाये जाते थे जहाँ से शहर में दूर दूर के लोग इसे देख सकें.

izmir g3ba246808 640 | hindiexplore
Image source : Pixabay

यूरोप में भी 13वीं शताब्दी में इन घड़ियों का प्रयोग होने लगा था. घडी में मिनट वाली सुई का आविष्कार सन 1577 इसवी में जॉस बर्गी (स्विट्ज़रलैंड) ने किया था. इससे पहले जर्मनी के न्यूरमबर्ग शहर में पीटर हेनलेन ने ऐसी घड़ी बना ली थी जिसे एक जगह से दूसरी जगह ले जाया सके.

आज के समय में जो हम घडी अपने हाथों में पहनते हैं उसको सबसे पहले फ़्राँसीसी गणितज्ञ और दार्शनिक ब्लेज़ पास्कल ने बनाया था. इन्होने कैलकुलेटर का आविष्कार भी किया था. सन 1650 के आसपास तक लोग घड़ी को जेब में रखकर घूमते थे, ब्लेज़ पास्कल ने एक रस्सी से इस घड़ी को अपनी हथेली में बाँध लिया ताकि वो काम करते समय घड़ी देख सकें. जो आगे चलकर घडी में चैन और पट्टों के रूप में विकसित हुआ.

भारत में भी 18वीं शताब्दी की शुरुआत में जयपुर के महाराजा जय सिंह द्वितीय ने जयपुर, उज्जैन, मथुरा, नई दिल्ली, और वाराणसी में कुल मिलाकर पांच जंतर मंतरों का निर्माण कराया था ताकि इनकी मदद से सूरज की दिशा और उससे बनी परछाई के आधार पर समय का पता लगाया जा सके इन सभी का निर्माण 1724 और 1735 के बीच पूरा हुआ था.

Jantar Mantar Delhi | hindiexplore
इमेज सोर्स : shutterstock

Watch Facts (घड़ियों से जुड़े रोचक तथ्य)

क्या आप जानते हैं कि

प्राचीन काल में लोग समय का अनुमान लगाने के लिए सूर्य पर ही निर्भर थे ?

आधुनिक सुई वाली घड़ियों से पहले सूर्य घडी, जल घडी, रेत घडी से समय का अनुमान लगाया जाता था.

घड़ियों में सबसे पहले घंटे वाली सुई ही होती थी. बाद में मिनट वाली सुई लगायी गयी और उसके बाद सेकेंड वाली सुई लगायी गयी.

वर्तमान में जो हम जीन्स पहनते हैं उसकी सबसे छोटी जेब घडी रखने के लिए ही बनायीं गयी थी.

Watch Facts

Watch Facts : वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में पूर्व या उत्तर दिशा की दीवार पर घडी लगाना चाहिए.

दुनिया में सबसे पहली घडी भारत के ऋषी मुनियों ने सुरज के प्रकाश से बनाई थी, वे किसी पेड़ पर पड़ने वाली छाया से समय का अनुमान लगाया करते थे।

मिश्र के लोगों ने दुनिया की सबसे पहली रेत घड़ी बनाई थी

जल घडी का आविष्कार सबसे पहले चीन में हुआ था. वे दो पात्रो में पानी भर कर, एक पात्र में छेद कर दिया करते थे, और जिस तरह से जल कम हो जाता था, उससे समय का अनुमान लगा लेते थे।

मोम घड़ी का आविष्कार अमेरीकियो ने किया था.

Rolex  Brand रोज़ाना लगभग 2,000 घड़ियाँ  बनाता हैं।

घडी में मिनट वाली सुई का आविष्कार सन 1577 इसवी में जॉस बर्गी (स्विट्ज़रलैंड) ने किया था.

दुनिया की सबसे महंगी घडी Super Kanpitiketed है, जिसकी कीमत करीब 68 Million है। यह एक Pocket Watch है।

दुनिया की सबसे महंगी घड़ियों की कंपनी रोलेक्स अपनी साल भर की कमाई का 90% हिस्सा चैरिटी में दान कर देता है, क्योंकि इस कंपनी का मालिक अनाथ आश्रम का बच्चा था

अन्य पढ़ें :

50+ Psychological Facts : मनोविज्ञान से जुड़े रोचक तथ्य।

100+ Unique Food Facts : भोजन से जुड़े अनोखे रोचक तथ्य.

Hindiexplore-Homepage

Leave a Reply

Your email address will not be published.